फक्कड़ घुमक्कड़ के किस्से

हिन्दी दिवस पर मित्र कमल रामवानी सारांश की पुस्तक फक्कड़ घुमक्कड़ के किस्से का स्वाद लिया। आप कहेंगे कि पुस्तक का स्वाद कैसे लिया, घोल के पी रहे थे क्या। तो असल में पुस्तक का नाम फक्कड़ घुमक्कड़ के किस्से भले है पर ये खब्बू घुमक्कड़ के किस्सों से भरी हुई है। पूरी पुस्तक के करीब सत्तर प्रतिशत से भी अधिक हिस्से में खाना ही खाना पसरा हुआ है। यहाँ तक कि लेखक स्वयं ट्रैवलिंग फूडी सारांश (घुमक्कड़ खब्बू सारांश) के नाम से प्रसिद्ध हैं।

मैं जब घुमक्कड़ों और फूडी लोगों की पोस्टें और तस्वीरें देखता था तो सोचता था कि भइया ये लोग कैसे कमाते होंगे, इनके पास इतना पैसा कहाँ से आता है जो ऐसे घूमते हैं और खूब खाते पीते टहलते रहते हैं। मतलब ये घुमक्कड़ी करने से कुछ पैसा वैसा भी मिलता है क्या? इस पुस्तक में मेरा ये प्रश्न एक बूढ़े ताऊ ने लेखक से पूछ लिया और अन्त में ये निष्कर्ष निकाला कि ये तो बड़ा चूतिया काम है। खैर, ताऊ का निष्कर्ष अपनी जगह, पर लेखक ने ये बता दिया कि जितना खर्चीला मुझे लगता था उतना खर्चीला शौक है नहीं ये घुमक्कड़ी। पूरा हिसाब दे दे के बताया है सिन्धी भाई ने कि कैसे सस्ते में भी घुमक्कड़ी का पूरा आनन्द लिया जा सकता है


पुस्तक शुरू होती है हिमाचल से और फिर बनारस से इंदौर होते हुये राजस्थान, हरियाणा और पंजाब के ठिकानों का ब्यौरा देती है। बनारस, लुधियाना और इंदौर की इतनी विस्तृत जानकारी इस किताब का सबसे मजबूत पक्ष है।
यह पुस्तक जितने भी शहर घूमकर लिखी गयी है वहाँ जाना हो तो इस को साथ लेकर जायें और उन अड्डों पर जाकर स्वाद लें। मैं तो यही करने वाला हूँ कभी उन जगहों पर जाना हुआ तो। मुरथल के ढाबों में घूमना हो, राजस्थान में ढाबालोजी, कसोल, पुष्कर के इजराइली अड्डे या लुधियाना के दारू के शोरूम, सब जगह काम आयेगी ये किताब
भाषा की बात करें तो पुस्तक में सामान्य बोल चाल की भाषा का ही प्रयोग हुआ है। सच कहूँ तो इस बिन्दु पर थोड़ा सा सुधार किया जा सकता था। बोलचाल और लेखन की भाषा में लेखन की भाषा बहुधा परिष्कृत होती है। लेखक ने यह जानबूझकर रखा है ताकि भाषा का भदेसपन बना रहे, घूमने वाले सीधा जुड़ पायें।


पहली पुस्तक के हिसाब से बात करें तो पुस्तक बहुत बढ़िया है। आपको ये नहीं लगेगा कि लेखक की ये पहली पुस्तक है।


यदि ये पुस्तक खरीदनी हो तो लेखक को सीधा भी सम्पर्क किया जा सकता है। अमेजन पर भी उपलब्ध है। यदि आप किंडल के शौकीन हैं तो आप इसका किंडल वर्जन भी ले सकते हैं जो सस्ता भी पड़ेगा।

किंडल वर्जन यहाँ से खरीदें

यदि आपके पास किंडल अनलिमिटेड प्लान है तो आप बिना किसी अतिरिक्त खर्चे के भी पढ़ सकते हैं

पेपरबैक वर्जन का लिंक

पुस्तक लेखक का फेसबुक लिंक

https://www.facebook.com/kamalramwani

6 thoughts on “फक्कड़ घुमक्कड़ के किस्से”

  1. बहुत सुंदर तरीके से लिखा गया है पुस्तक के बारे में👌

    Reply

Leave a Comment